Monthly Archives: May 2011

Ashish Pandey:अपनी तो दुनिया ही दोस्तो से है……………………………………………….

۩๑ खुशी भी दोस्तो से है, गम भी दोस्तो से है|
๑۩๑ तकरार भी दोस्तो से है, प्यार भी दोस्तो से है|
๑۩๑ रुठना भी दोस्तो से है, मनाना भी दोस्तो से है|
๑۩๑ बात भी दोस्तो से है, मिसाल भी दोस्तो से है|
๑۩๑ नशा भी दोस्तो से है, शाम भी दोस्तो से है|
๑۩๑ जिन्दगी की शुरुआत भी दोस्तो से है|
๑۩๑ जिन्दगी मे मुलाकात भी दोस्तो से है|
๑۩๑ मौहब्बत भी दोस्तो से है, इनायत भी दोस्तो से है|
๑۩๑ काम भी दोस्तो से है, नाम भी दोस्तो से है|
๑۩๑ ख्याल भी दोस्तो से है, अरमान भी दोस्तो से है|
๑۩๑ ख्वाब भी दोस्तो से है, माहौल भी दोस्तो से है|
๑۩๑ यादे भी दोस्तो से है, मुलाकाते भी दोस्तो से है|
๑۩๑ सपने भी दोस्तो से है, अपने भी दोस्तो से है|
๑۩๑ या यूं कहो यारो, अपनी तो दुनिया ही दोस्तो से है