Monthly Archives: March 2012

Ashish Pandey B’day

                         
                                              The best way to remember your  birthday is to forget it once…
                                                           Ashish B’day Is On 17 Mar 2012

                                                            cake is Gifted By My Friends

                                                 Anuj,Sharvan,Me,kaka,Nd Akash                                                    

                                                         Anuj,Me,kaka nd Thapa

 
                                                                Cake Is On My face

Ashish Pandey

Sham honay say pehlay laut ana
Kisi k naam honay say pehlay laut ana
Hum tere intezar mein hain
Anjan honay say pehlay laut ana
Subha shaam rehti hai tere dedar ki umeed
Din khatam honay say pehlay laut ana
Agar na laut paao to bas itna kar dena
Meri zindagi khatam honay say pehlay laut ana

Ashish Pandey

Chalte chalte zindagi ki rahon par , kuchh dost aise bhi mil jaate hain……….
Wo jikra karte hain apni har khushi ka hamse, par apna har gham hamse wo chhipate hain……..
Dikhate hain raah hamein khushhaal zindagi ki lekin, khud hi gumnamiyon mein chalte jate hain…
Wo saath rehna hamara wo saath chalna hamara, wo roooth jana uska fir jake manana hamara……

                                                              
Yaad aata hai hardam wo jheelon ka kinara, kitne haseen the wo din wo haseen pal……
Jinki yadon mein ham haste aur gungunate hain jinko yaad karke ham haste aur muskurate hain……….
Samajh na paye ham us dost ki fitrat ko, bina jane samjhe unhein ham bewafa batlate hain………… 

                                                         
Kitne ho gile shikave lekin saath vo hi nibhate hain , par ek baat to sach hai is zindagi mein ye ki…………….
Ye Dost harpal yaad ate hain , wo har pal yaad ate hain ………….


Ashish Pandey

Ashish Pandey

                                                

                      Web Design and SEO

 There are all kinds of businesses on-line, starting small to medium and middle out to huge. Even though the strategies for all all of these continue to be different, but what exactly remains typical among all these kinds will be the internet profile. Unless of course and up to company, whether it s of any climb and of any type of, doesn t need a good display, it truly is handled as fun or a trick!Thus, you might want geographically based Website positioning offerings or web designs so as to gain more success.No doubt, the web region is swelling therefore there’s a need of right tactics for all online businessmen to go up against and survive throughout on the web society.This may incorporate commercial words, PPC, name administration, consumption of right satisfied, post distribution, link wheel, blog commenting and much more. It is just important to choose the right service providers depending upon your online business necessities.

Ashish Pandey

थाना क्षेत्र के ग्राम घुरहा में आम के बाग में कीटनाशक का छिड़काव करते समय पेड़ पर बैठे आधा दर्जन मोर की मौत हो जाने से हड़कंप मच गया। जानकारी मिलते ही बाग में ग्रामीणों की भीड़ एकत्र हो गयी। वनकर्मियों ने मौके पर पहुंच कर मृत मिले 4 मोरों को अपने कब्जे में ले लिया। शुक्रवार को पशु चिकित्सकों की टीम ने मोरों का पोस्टमार्टम कर सभी को गड्ढा खोद कर दफन कर दिया।
बताया जाता है कि ग्राम घुरहा में पूर्व प्रधान विद्या प्रकाश का आम का बाग है। गुरुवार को गांव निवासी प्रेम अपने साथियों के साथ आम के बाग में कीटनाशक का छिड़काव ट्रैक्टर पर कर रहा था। आम के पेड़ों पर आधा दर्जन से अधिक मोर बैठे हुए थे। पेड़ों पर छिड़काव के दौरान मोरों पर भी जहरीली दवा पड़ गयी। इससे कुछ देर बाद एक-एक कर कई मोर पेड़ों से नीचे गिर गये और उनकी मौत हो गयी। जानकारी मिलते ही ग्रामीणों की भारी भीड़ एकत्र हो गयी।
सूचना पाकर देर रात वनकर्मी दिनेश बड़ौला भी मौके पर पहुंच गये और मृत मिले 4 मोरों को अपने कब्जे में ले लिया। शुक्रवार को उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाक्टर दिनेश कुमार, डाक्टर रामेंद्र सिंह, डाक्टर अनिल कुमार भास्कर ने संयुक्त रूप से मृत मोरों का पोस्टमार्टम वन कार्यालय में किया। डाक्टरों का कहना है कि मोरों की मौत जहर से हुई है। पोस्टमार्टम के बाद एक गडढा खोद कर उसमें नमक डाल कर मोरों दफना दिया गया। वन कर्मियों का कहना है कि घटना की जांच की जा रही है और दोषी के विरुद्ध शीघ्र मुकदमा दर्ज कराया जायेगा।