Monthly Archives: November 2012

Ashish Pandey

हमारे द्वारा लिखे गए कुछ हमारे ही विचार…


जब रात की काली रातों में ,अपने अतीत में जाता हूँ.
कैसे समझाउं इस दिल को ,इस दिल को अकेला पाता हूँ!

                    
दिल को अकेला पाते ही ,वो लम्हे जीने को दिल करता है!…..
भूला नहीं जाता उसको ,ये दिल याद उसी को करता है!
यादों को समझाउं कैसे, ….दिल को मैं बहलाऊ कैसे ?

                             
उपर से तो खुश रहता हूँ ..अपनी तन्हाई सबको मैं दिखाऊं कैसे?
यही सब सोचते सोचते , यारों मैं सो जाता हूँ ..
कैसे समझाउं इस दिल को ,इस दिल को अकेला पाता हूँ!
सौजन्यसे

Ashish Pandey

16 Nov. को आया हूँ इस दुनिया में यारों
आते ही पाया है अपने परिवार को यारों

          
अभी तो कोई ख़ुशी है और ना ही है गम यारों ..

अभी तो मैं अपने में ही मस्त हूँ यारों.




Written By-

Jab Tak hai jaan

                                               

teri aankhon ki namkeen mastiyaan
teri hansi ki beparwaah gustakhiyaan
teri zulfon ki lehrati angdaiyaan
nahi bhoolunga main
jab tak hai jaan, jab tak hai jaan

                   


                                                 



tera haath se haath chhodna
tera saayon se rukh modna
tera palat ke phir na dekhna
nahin maaf karunga main,
jab tak hai jaan, jab tak hai jaan..



                                                         

baarishon mein bedhadak tere naachne se
baat baat pe bewajah tere roothne se,
chhoti chhoti teri bachkani badmashiyon se,
mohabbat karunga main
Jab tak hai jaan, jab tak hai jaan..

                                    

                                                              
Tere jhoothe kasme vaadon se,
tere jalte sulagte khwabon se,
teri beraham duaon se,
nafrat karunga main,
Jab tak hai jaan, jab tak hai jaan..