Ashish pandey

ये आसु जो तेरी जुदाई मे बहते है,
हो के भी दूर हम साथ साथ चलते है……….
                                                         Created with Nokia Smart Cam

इस दिल मे है तमन्ना और तमन्नाओ मे हो तुम
इसी उम्मीद मे कभी ये बहते तो कभी ये रुकते है………..
                                                  1
जिन्दगी के  गलियारो मे घटनाये भी घटती है
दूर पास कि फिक्र मे सासे ये अटकती है………..

7

हसना  चाहता हू मगर रोक लेते है
ये आसु जो तेरी जुदाई मे बहते है…………….

सौजन्य से ….
आशीष पाण्डेय

Advertisements